हां वो तुम हो....

शुक्रवार, जनवरी 08, 2010




कल रात बादलों की आड़ में
जो खेल चल रहा था,
उसकी रचनाकार तुम हो
हां वो तुम हो,


बड़े इंतज़ार के बाद,
बेक़रार दिल पर,
चांदनी बरसाने वाली तुम हो
हां वो तुम हो,



पास तो न हो तुम इस वक्त मेरे,
पर रात के अंधेरे में
मुझ पर छुपी नज़रों से देखती
हां वो तुम हो,


ग़र होती पास मेरे,
तेरे हाथों लेकर हाथों में, पर
हाय री किस्मत, दूर हो
सिमटती हुई इस कविता में तुम हो
हां वो तुम हो,


ज़रो रुको तो क्षण भर,
देख लूं जी भरकर,
पर तुम फिर न मानी
बादलों की ओट लेकर छुपती हुई तुम हो,
हां वो तुम हो।


6 टिप्पणियाँ:

बेनामी ने कहा…

अबे निपट बेवकूफ आदमी तू अकल से पैदल है क्या? क्या लिखता रहता है? अबे थोड़ा समझने की ही कोशिश की होती तो ये हाल न होते, गंवार

Udan Tashtari ने कहा…

बढ़िया..लिखते रहिये.

लगता है कि अनोनिमस को मेरी टिप्पणियों से मजा आ रहा है

मनोज कुमार ने कहा…

बेहद रोचक ।

deep ने कहा…

बहुत अच्छे! उम्मीद है आगे भी आपकी रचनाये पढ़्ने को मिलेंगी!

संजय भास्कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

Related Posts with Thumbnails