कोई भारतीय नहीं..सब प्रादेशिक हैं ?

शनिवार, जून 20, 2009

फिर उठ रहा है गर्मा गरम मुद्दा उत्तर भारतीय और मराठी का...शिवसेना का शिव बड़ापाव हो या कांग्रेस का पोहा..सब किसी न किसी को कुछ न कुछ खिलाने की कोशिश कर रहे हैं। राजनीति का गंदे खेल को छोड़ दें तो मुद्दा कुछ खिलाने का नहीं हैं ..यहां मुद्दा मराठी मानुष को काम देने का है। लेकिन इस पर भी राजनीति शुरु हो गई हैं। मराठी और उत्तर भारतीयों के मुद्दे पर बहस तो बहुत हुई लेकिन सार कभी कुछ नहीं निकला। मै आज फिर इस मुद्दे पर एक नई बहस को जन्म दे रहा हूं कि आखिर मराठी मानुष को उत्तर भारतीयों से इतनी चिढ़ क्यों है। और वो कौन से मुद्दे हैं जिन पर बहुत सी नई पार्टियां शुरु हुई हैं। चाहे वो सालों से मराठी मानुष को आगे लाने के लिए बनी शिवसेना हो या महाराष्ट्र नव निर्माण सेना। क्यों मराठी लोगों को ऐसा लगता है कि उत्तर भारतीय उनके काम को छीनते हैं। यहां पर एक बात तो माननी होगी कि यूं तो मेरे साथ कई मराठी लोग काम करते हैं मेरे आस पास रहते हैं उनको इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि महाराष्ट्र में उत्तर भारतीय काम करें या न करें। ये बात तो निर्भर करती है कि काम पर रखने वाले किन लोगों को रखते हैं और किसको नहीं। मै एक साफ सुथरी बहस चाहता हूं इस मुद्दे पर कि मराठी लोगों को अपनी असुरक्षा का भाव कहां औऱ क्यों आता है। सिर्फ महाराष्ट्र में भी बहुत से उत्तर भारतीय काम करते हैं औऱ कई लोग तो ऐसे हो जिनके पूर्वज शायद उत्तर भारतीय थे लेकिन वो नहीं है क्यों उनका जन्म वहीं के किसी अस्पताल में हुआ है। मेरे घर के ऊपर वाले मकान में एक महाराष्ट्रियन परिवार रहता था जब तक वो रहे हमारे उनके अच्छे संबध रहे पर जब मनसे के कार्यकर्ताओं का कहर उत्तर भारतीयों पर शुरु हुआ तो मैने उनसे इस मुद्दे पर व्यापक बातचीत की असल में मै वहां के आम आदमी की सोच को जानना चाहता था। उन्होंने जो मुझे बताया उसके मुताबिक महाराष्ट्र में लोगों को ये फर्क नहीं पड़ता कि कौन उत्तर भारतीय है कौन नहीं ...पर दिक्कत तब आती है जब वहां पर काम देने वाली फर्म उत्तर भारतीयों को सस्ते लेबर की वजह काम देना ज्यादा पसंद करता हैं क्योंकि इसमें उन्हे मुनाफ़ा ज्यादा मिलता है... और लागत कम लगती है। इसी वजह से वहां के मराठी लोगों में इस बात से आक्रोश बढ़ गया। उन्हें लगा कि बाहर से लोग आ रहे हैं उन्हें काम मिल रहा है पर उन्हें नहीं। यहां समझने वाली बात ये है कि इस तरह की रणनीति हर फर्म करती है चाहे वो महाराष्ट्र हो या दिल्ली..यहां भी अगर कोई फर्म अपना कारखाना लगाती है तो कोशिश करती है कि लोकल लोगों को कम से कम काम पर रखा जाये इसका कारण होता कि लोकल होने की वजह से उनकी धाक जमी रहती है और इस वजह से अपर हैंड का काम करता लोकल होना। यहीं कारण है कि वो बाहर से आये हुए कर्मचारियों को ज्यादा अग्रणी रखती है। इसमें उनका सस्ता लेबर भी एक प्लस प्वाइंट की तरह काम करता है। एक मानसिकता इस पूरे बबाल के पीछे है वो ये कि अगर हमारे प्रदेश में कोई फैक्ट्री लगती है तो ज्यादा से ज्यादा लोग ये सोचते हैं कि अब यहां के लोगों को काम मिलेगा ...उस वक्त इस ख्याल पर बात नहीं होती कि बहुत से लोगों को काम मिलेगा। इसी वजह से जो लोग बाहर से आते उन लोगों को वहां के स्थानीय लोगों के आक्रोश से रुबरु होना पड़ता है। यही बात महाराष्ट्र पर लागू होती है  इसी वजह से वहां के लोगों को उत्तर भारतीयों से चिढ़ होती है। या ये कहें कि उन्हें हर उस व्यक्ति से परेशानी होती है जो महाराष्ट्र से बाहर के होते हैं। अपने पड़ोस में रहने वालों से मैने ये भी पूछा कि तो फिर सिर्फ उत्तर भारतीयों को क्यों निशाना बनाया जा रहा है। तो उन्होंने कहा कि उत्तर भारतीयों को नहीं ग़ैर मराठी को निशान बनाया जा रहा है। क्योंकि महाराष्ट्र में उत्तर भारतीयों की संख्या ज्यादा है इसलिए ज्यादा से ज्यादा निशाना उत्तर भारतीय बन रहे हैं। जबकि सच ये है कि वहां पर रह रहे सभी ग़ैर मराठी लोग निशाना बन रहे हैं आक्रोशित लोगों का शिकार बन रहे हैं।

1 टिप्पणियाँ:

आदर्श राठौर ने कहा…

अबे भइय्ये डायलॉग मत मार
तुझे ज्यादा फिक्र पड़ी है...


कई अनामी आपकी पोस्ट पर इस तरह से कमेंट करने क्यों नहीं आया। हैरान हूं। आपने सही मुद्दा उठाय़ा है

Related Posts with Thumbnails